हमारे बारे में

आज समाज के जरूरतमंद बच्चों एवं युवा पीढ़ी के लिए मिशन आशा के एक दीप के रूप में निरंतर प्रयासरत है।

मातृभूमि सेवा मिशन एक आध्यात्म प्रेरित स्वैच्छिक सेवा संगठन है, जो युवाओं की करूणा एवं समाज के दायित्व बोध से संचालित है। मिशन की विधिावत् स्थापना युवा तरूण तपस्वी परिव्राजक डॉ॰ श्रीप्रकाश मिश्र के द्वारा स्वामी विवेकानन्द जयंती एवं राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर 12 जनवरी 2003 को श्रीमद्भगवद्गीता जन्मस्थली कुरुक्षेत्र् में हुआ। मिशन विगत् पंद्रह वर्षों से मानवता की सेवा को अपना लक्ष्य बना कर अनवरत प्रयासरत है। मिशन समाज के कुष्ठ रोगियों के स्वस्थ बच्चों, गरीब असहाय एवं जरूरतमंद बच्चों के सर्वांगिण विकास के लिए समर्पित है। 

मिशन द्वारा ऐसे बच्चों को समस्त सुविधाएं नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जाती हैं। मिशन द्वारा अब तक लगभग 250 बच्चों को शिक्षित-दीक्षित कर राष्ट्र एवं समाज की मुख्य धारा से जोड़कर स्वावलम्बी बनाया जा चुका है। मिशन एक स्वैच्छिक संगठन होने के नाते अपने नि:स्वार्थ भाव से सहयोग करने वाले समाज के प्रति स्व-दायित्व बोधा से प्रेरित समूह के साथ निरंतर प्रगति की ओर अग्रसर है। मिशन के द्वारा शीघ्र ऐसे ही 200 बच्चों के लिए आवासीय केन्द्र बनाना प्रस्तावित है।

मातृभूमि शिक्षा मंदिर-
मातृभूमि शिक्षा मंदिर जरूरतमंद, असहाय एवं कुष्ठ रोगियों के स्वस्थ बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा एवं मिशन द्वारा संचालित बालअभिमन्यु छात्रवास में आवासीय सुविधा उपलब्ध करायी जाती है ।

वेद विद्यापीठम्-
मिशन प्राचीन एवं आधुनिक शिक्षा में समन्वय स्थापित कर एक विशेष विद्यापीठ के निर्माण में संलग्न है, जिससे विश्व मानवता की सेवा के निमित्त युवा-पीढ़ी तैयार हो सके।

माँ सरस्वती पुस्तकालय-
प्राचीन भारत के विभिन्न महापुरूषों की जीवनियों से संबंधित अनेक सारी पुस्तकों का संग्रह है। पुस्तकालय संस्थान के विद्यार्थियों के लिए बहुत ही उपयोगी एवं महत्वपूर्ण साबित हो रहा है।

कामधेनु गौशाला-
आश्रम के बच्चों के लिए दूध की पूर्ति के लिए एक लघु गौशाला की स्थापना की गई है। जिसमें मिशन के छात्रवास के विद्यार्थियों के लिए दूध का समुचित प्रबंध होता है।

श्रीमद्भगवद्गीता शोध संस्थान-
मिशन द्वारा विगत् 16 वर्षों से अंतरराष्ट्रीय श्रीमद्भगवद्गीता जयंती समारोह का आयोजन कर रहा है। जिसमें देश के अनेक धर्माचार्य, अनेक देशों के माननीय राजदूत, प्रशासनिक अधिकारी एवं सामाजिक क्षेत्र कार्यरत्, अनेक विश्वविद्यालयों के कुलपति व प्रोफेसर, शोधार्थी सहित अनेक गणमान्य जनों की गरिमामयी उपस्थिति रहती है।

मिशन

मातृभूमि सेवा मिशन एक आध्यात्म प्रेरित स्वैच्छिक सेवा संगठन है, जो युवाओं की करूणा एवं समाज के दायित्व बोध से संचालित है।

विजन

मिशन की विधिावत् स्थापना युवा तरूण तपस्वी परिव्राजक डॉ॰ श्रीप्रकाश मिश्र के द्वारा स्वामी विवेकानन्द जयंती एवं राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर 12 जनवरी 2003 को श्रीमद्भगवद्गीता जन्मस्थली कुरुक्षेत्र् में हुआ। मिशन विगत् पंद्रह वर्षों से मानवता की सेवा को अपना लक्ष्य बना कर अनवरत प्रयासरत है। मिशन समाज के कुष्ठ रोगियों के स्वस्थ बच्चों, गरीब असहाय एवं जरूरतमंद बच्चों के सर्वांगिण विकास के लिए समर्पित है।